Virtual Siyahi

मेरा साहस मेरा सारथि

मेरा साहस मेरा सारथि

पथ पे चाहे कांटे हज़ार हों
तेरे वजूद को झुटलाने चाहे कितने ही लोग तैयार हो

जो चल पड़ा है तू इस राह में
तो बस आगे चल
मंज़िल अभी दूर सही
रास्ते घने घनघोर सही

तेरी मेहनत
तेरी हिम्मत
तेरा जूनून
और उसमे सुकून

रंग लाएंगे तब
साथ होगा जब
तेरा हर कदम, तेरे बुलंद इरादों के संग

तू चल
तू आगे बढ़
की अब थकना मना हैं
किसी की दो टूक बात सुन, अब रुकना मन है

वो आएँगे तुझे हर पल रास्ता भटकाने को
तुझे तेरे ही बनाये हुए रास्तो से हटाने को
पर तू चीर कर उस धारा को उससे दूर निकल

तू चल तू आगे बढ़
हाथ थाम अपने साहस का
लक्ष्य को लेकर साथ चल
उलझने चाहे हज़ार हो
मुश्किलें बारम्बार हो पर
तू बास चल तू आगे बढ़

तेरी नियत
तेरी मेहनत
रंग लाएगी जरूर

तेरी सीरत
तेरी फितरत
असर दिखाएगी जरूर

तो बस साहस के संग
हर कदम
अजेय
समर्पित
निष्ठुर
तू बस चल और आगे बढ़

प्रियंका ©

11 thoughts on “मेरा साहस मेरा सारथि

  1. हिंदी में आपके लेख कम आते हैं लेकिन जब भी आते हैं शानदार आते हैं।

Your comments make my day 💜

%d bloggers like this: