आख़िर यह मसला क्या है

हर बात बस यही रुक जाती हैये जद्दोजहद का मसला क्या है क़ुरान-ए-पाक और श्रीमदभगवत गीता में ये चर्चा कहा हैइस मिटटी में सोना पनपता था जो कभीजिस धरोहर की दुहाई ज़माना दिया फिरता है उस गुल-ए-हिंदुस्तान का आखिर ये सियासती मसला क्या है गंगा जमुनी से यह उर्दूगुरबानी की मिठास में रूह सजोती हुईजाप … Continue reading आख़िर यह मसला क्या है

Invisible Wounds

Physical or Mental pain is a pain... physical wounds are visible and curable mental wounds are invisible and unendurable just because you carry it well it doesn't make you strong you can be weak and there is nothing wrong a broken heart is tired and drained not able to accept further pain you get labeled … Continue reading Invisible Wounds

नीली सियाही

ज़िन्दगी मानों किसी मुफ़लिस की क़बा हो जैसे जिए जा रहे है किसी की मनकही बद्दुआ जैसे इस एक उम्र में न जाने कितनी ज़िंदगानी क़ैद है क्युकी मेरे कदम जब भी थरथराये मेरे वालिदा ने साँसे भरी है मुझमे ये प्रीत कभी परायी हो ही न सकी क्युकी यहाँ अपना न सका मुझे कोई … Continue reading नीली सियाही